.

जमीन का नक्शा क्या है? भू-नक्शा कैसे बनाया जाता है? नक्शा कैसे निकालें

.

जमीन का नक्शा हमारी जमीन के लिए बहुत जरूरी होता है बिना नक्शे के हम अपनी जमीन का सही पता नही लगा सकते है क्योंकि नक्शा हमारी जमीन को प्रदर्शित करता है जिससे की हम अपनी जमीन का पता लगाते हैं पहले के समय में हम नक्शा निकलवाने के लिए पटवारी या तहसील कार्यालय में जाते थे पर आज के समय में घर बैठे इसे ऑनलाइन Download कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि नक्शा क्या है?

जमीन का नक्शा क्या है? | Bhumi Naksha in Hindi

जमीन का नक्शा एक ऐसा दस्तावेज है जो हमारी जमीन की वास्तविक स्थिति को प्रदर्शित करता है जैसे हमारी जमीन और जमीन के चारों ओर का खसरा नंबर क्या है, जमीन की वास्तविक स्थिति क्या है जैसे क्या जमीन  चौकोर, तिकोना आदि आकार में हैं  का पता लगता है। यह नक्शा राज्य के भूमि अभिलेख शाखा द्वारा जारी किया जाता है।

ये भी पढ़े – जमीन का खसरा क्या है?

.

भूमि के नक्शे के क्या उपयोग है?

  1. जमीन के वास्तविक आकार को कागज में प्रदर्शित करना।
  2. मौके पर जमीन की सीमाओं का निर्धारण करना।
  3. ज्यामिति की सहायता से घर बैठे अपनी भूमि का क्षेत्रफल की गणना करना।
  4. जमीन के दस्तावेजों में सुधार हेतु।
  5. भूमि के विक्रय, अवैध कब्जे को हटाने में सहयोगी।

जमीन का नक्शा कैसे बनाया जाता है?

जमीन का नक्शा भूमि अभिलेख विभाग द्वारा सामान्यतः प्रत्येक 30 वर्षों के बाद तैयार किया जाता है। नक्शे में मुख्य रूप से वास्तविक स्थल पर स्थित आकृतियों को प्रदर्शित किया जाता है।

पहले के समय में नक्शा कैसे बनाया जाता था?

पूर्व के समय में नक्शे को बनाने के लिए सबसे पहले जमीन को जंजीर अथवा रस्सी की मदद से राजस्व अधिकारियों द्वारा नापा जाता था नापने के दौरान खेत की सीमाओं, कुआं तालाब आदि को चिन्हित किया जाता था, उसके बाद ज्यामिति की मदद से जमीन की आकृति को एक निश्चित पैमाने जो की ग्रामीण क्षेत्र में 1: 4000 तथा शहरी क्षेत्र हेतु 1: 1000 व 1:500 निर्धारित के अनुसार तैयार किया जाता था।

वर्तमान के समय में नक्शा कैसे बनाया जाता है?

वर्तमान समय में भूमि के नक्शे को बनाने के लिए सेटेलाइट इमेजनरी का प्रयोग किया जाता है इसकी मदद से बहुत कम समय में किसी बड़े क्षेत्र के नक्शे को तैयार किया जा सकता है। भूमि के नक्शे को बनाने के लिए ड्रोन तकनीक की भी मदद ली जाती है इसके द्वारा किसी क्षेत्र विशेष के संपूर्ण भाग का ड्रोन की मदद से सर्वे किया जाता है। सर्वे के बाद ड्रोन द्वारा ली गई इमेज को प्रोसेस कर नक्शा बनाया जाता है।

.

खसरा तथा नक्शे में क्या संबंध है?

  • खसरा तथा नक्शा एक दूसरे के पूरक है अर्थात किसी भूमि की पूर्ण जानकारी इन 2 दस्तावेजों के बिना अधूरी होती है।
  • खसरा जहां भूमि मालिक का नाम खसरा क्रमांक क्षेत्रफल आदि की जानकारी प्रदान करता है वही नक्शा भूमि की वास्तविक स्थिति को कागज पर प्रदर्शित करता है।
  • किसी भी राजस्व संबंधी कार्य में खसरा व नक्शा दोनों समान रूप से उपयोगी है क्योंकि मौके पर जमीन मालिक के कब्जे की स्थिति नक्शे से तथा जमीन की जानकारी खसरे से मिलान की जाती है।
  • किसी जमीन के लिए उसका खसरा एक ही होता है परंतु उसका नक्शा भिन्न भिन्न पैमाने के अनुसार अलग अलग होता है।
  • किसी भी खसरे का एक ही नंबर होता है जबकि 1:1000 के पैमाने पर बनाया गया नक्शा 1:4000 पर बनाए गए नक्शे के स्वरूप से  अधिक बड़ा एवम स्पष्ट होता है।

नक्शे में सुधार कब होता है?

नक्शे में सुधार मौके पर जमीन की स्थिति के अनुसार किया जाता है-

  • जब भूमि मालिक भिन्न क्षेत्रफल पर काबिज हो तथा नक्शे में दर्शित क्षेत्रफल भिन्न हो तो नक्शे में सुधार उसकी सीमा में परिवर्तन कर किया जाता है।
  • जब किसी जमीन के कुछ हिस्से के विक्रय करने पर भी दो फसलों का निर्माण हो जाता है इस स्थिति में बेचे गए जमीन को नक्शे में अलग दिखाने हेतु उनके मध्य में एक रेखा खींची जाती है जिसकी इस स्थिति मौके पर कब्जानुसार तय की जाती है।

नक्शे में सुधार कैसे होता है?

नक्शे में सुधार केवल भू अभिलेख विभाग द्वारा पटवारी या लेखपाल की तैयारी रिपोर्ट के अनुसार किया जाता है। इसलिए अपने नक्शे को सुधरवाने के लिए आप अपने क्षेत्र के पटवारी या लेखपाल से संपर्क कर सकते हैं।

नक्शे का वर्तमान स्वरूप क्या है?

पूर्व समय में नक्शे बड़े-बड़े कागजों पर तैयार किए जाते थे जिसकी दो प्रतियां बनाई जाती थी एक प्रति जिला कार्यालय में तथा दूसरी प्रति उपयोग हेतु ग्राम स्तर पर पटवारी या लेखपाल को प्रदान की जाती थी। जमीन के नक्शे की प्रति हेतु तहसील कार्यालय में भूमि मालिक द्वारा आवेदन किया जाता था उसके बाद उसे नक्शे की सत्यापित प्रति प्रदान की जाती थी। इस कार्य में काफी समय लग जाया करता था।

.
डिजिटल नक्शा का स्वरुप

वर्तमान डिजिटल युग में नक्शे की डिजिटल प्रति आम जनता हेतु वेबसाइट पर उपलब्ध रहती है इसका सत्यापन भी एक निश्चित शुल्क देकर कराया जा सकता है नक्शे के वर्तमान स्वरूप में पूरे ग्राम के नक्शे को एक साथ देखा जा सकता है तथा किसी जमीन पर एक क्लिक करने मात्र से उसकी समस्त जानकारियां प्रदर्शित हो जाती है। 

नक्शा कहां से प्राप्त करें?

वर्तमान समय में हम नक्शे को राज्य के भू अभिलेख शाखा की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं जैसे मध्यप्रदेश राज्य के लिए www.mpbhulekh.gov.in वेबसाइट पर जाकर वर्तमान/पूर्व खसरे  लिंक पर क्लिक कर संबंधित जिले, तहसील , ग्राम तथा खसरा क्रमांक को चुनकर नक्शा प्राप्त किया जा सकता है।

नक्शा से जुड़े कुछ सवाल जवाब

भू नक्शा क्या है?

जमीन का नक्शा एक ऐसा दस्तावेज है जो हमारी जमीन की वास्तविक स्थिति को प्रदर्शित करता है जैसे हमारी जमीन और जमीन के चारों ओर का खसरा नंबर क्या है।

नक्शा किसके द्वारा जारी किया जाता है?

नक्शा राज्य के भूमि अभिलेख शाखा द्वारा जारी किया जाता है।

नक्शा में सुधर कौन करता है?

पटवारी या लेखपाल के द्वारा बनाई गई रिपोर्ट के अनुसार भूमि अभिलेख विभाग करता है।

नक्शा कब और क्यों सुधारा जाता है?

भूमि मालिक का छेत्रफल भिन्न होने पर
जब किसी जमीन का विक्रय दो या दो से अधिक हिस्सों में हो जाता है।

.

Leave a Comment